राकेश टिकैत कैसे बने किसान यूनियन के लीडर जानिए

राकेश टिकैत का जन्म 4 जून 1969 बालियान खाप परिवार में हुआ.खाप परिवार का नियम है कि पिता की मौत के बाद परिवार का मुखिया घर का बड़ा होता है.नरेश राकेश से बड़े हैं इसलिए उन्हें BKU अध्यक्ष बनाया गया     

टिकैत ने मेरठ विद्यालय से M.A की उपाधि प्राप्त की और 1992 में दिल्ली पुलिस में तत्कालीन सब इंस्पेक्टर के रूप में कॉन्स्टेबल के रूप में शामिल हुए लेकिन 1993 -1994 में लाल किले पर किसानों के विरोध प्रदर्शन के दौरान दिल्ली पुलिस को छोड़ दिया और भारतीय किसान यूनियन के [BKU] सदस्य के रूप में विरोध में शामिल हो गए 

instagram /rakesh.tikait

टिकैत अपने पिता के मृत्यु के बाद आधिकारिक तौर पर भारतीय किसान यूनियन [BKU] में शामिल हो गए और बाद में प्रवक्ता बन गए 2018 में टिकैत हरिद्वार उत्तराखंड से दिल्ली तक की किसान क्रांति यात्रा के नेता थे

पंजाब और हरियाणा के किसानों के साथ एक और नाम जो आंदोलन में मुख्य तौर पर उभरा है वह है भारतीय किसान यूनियन के  राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत का भारतीय किसान यूनियन एक ऐसा किसान संगठन है जिसकी पहचान पूरे देश में  है और इसके अध्यक्ष राकेश टिकैत

instagram /rakesh.tikait