यात्रीगण कृपया ध्यान दें,मुंबई,लखनऊ,नई दिल्ली अहमदाबाद,जाने के लिए कब से और कहां से छूटेगी ट्रेन,पढ़िए

कोरोनावायरस महामारी के कारण ट्रेन का आगमन और प्रस्थान बंद कर दिया गया था, केवल महत्वपूर्ण सामान ले जाने के लिए कुछ ट्रेन चालू की गई थी राज्य सरकार की अनुमति से, एक राज्य से दूसरे राज्य में खाद्य पदार्थ और प्रतिदिन का आवश्यक सामान एक राज्य से दूसरे राज्य भेजने के लिए कुछ ट्रेन चालू थी

धीरे-धीरे कोरोनावायरस की हालत को सुधार देते हुए कई राज्यों का लोक डाउन खुल गया है और ट्रेन कुछ चालू हो गई है एक राज्य से दूसरे राज्य जाने के लिए, राज्य सरकार ने जिस राज्य में कोरोनावायरस का बीमारी बहुत कम है, वहां कि राज्य सरकार कुछ ट्रेनों चलने की अनुमति दे दी है
भारत के सबसे तेज शहर में से मुंबई, दिल्ली, अहमदाबाद,

से लोगों को आने जाने के लिए ट्रेन चालू होने की अनुमति केंद्र सरकार ने दे दिया है और यह ट्रेन लखनऊ से दिल्ली जाने के लिए और अहमदाबाद से मुंबई जाने के लिए 17 अक्टूबर से चालू होने वाला है मुंबई से दिल्ली जाने या आने के समय अंधेरी में रुकने का भी प्रस्तावित किया गया है, अहमदाबाद से मुंबई आने के लिए स्टेशन में ट्रेन रुकेगी, और मुंबई से अहमदाबाद जाते वक्त अंधेरी में रुकने का आश्वासन दिया है

मिनिस्ट्री ऑफ रेलवे समय तेजस एक्सप्रेस को रिज्यूम सर्विस चालू करने के लिए 17 अक्टूबर 2020 से लखनऊ से नई दिल्ली के बीच और अहमदाबाद से मुंबई जाने के लिए ट्रेन 17 अक्टूबर से शुरू किया जाएगा यह जानकारी मिनिस्ट्री ऑफ रेलवे ट्वीट करके दिया है

पीयूष गोयल के ऑफिस के तरफ से रेलवे सितंबर 2020 में 2019 की अपेक्षा 15% अधिक माल की आगमन और प्रस्थान किया गया है एक दूसरे राज्य में और अक्टूबर में 10 दिनों में यह वृद्धि 18% तक हासिल कर लिया गया, यह संकेत है कि देश में अब तेजी से कोविड-19 के संकट से हमारा देश बाहर आ रहा है और हमारी गति बढ़ रही है कार्य करने में, पीयूष गोयल की ऑफिस के माध्यम से जानकारी दिया गया है

मेक इन इंडिया के तहत दूध फैक्ट्री मधेपुरा में इलेक्ट्रिक ब्लॉक में थी और मैडोरा में डीजल लोकोमोटिव फैक्ट्री का निर्माण नरेंद्र मोदी के कार्यालय में किया गया है यह जानकारी ऑफिस के माध्यम से दिया गया है

बिहार में इलेक्शन के कारण भाजपा के टीम के नेता कई कामों याद करके और लोगों को बता रहे हैं कि अब तक मैं बिहार में क्या काम करने वाला हूं और क्या किया, पीयूष गोयल ने दानापुर से देवलाली के बीच 7 अगस्त को पहली किसान रेलवे शुरू की कोई बढ़ती मांग को देखते हुए इसका विस्तार मुजफ्फरपुर तय किया गया,

बिहार में 2021 तक 268 किमी नई रेलवे लाइन का और 191 किमी ट्रैक दोहरीकरण किया जाएगा और 1660 की में रेल लाइन का विद्युतीकरण पिछले 6 वर्ष में बिहार में विकसित किया गया है, पीयूष गोयल ने लिखा कि हमारा प्रयास है कि अगले वर्ष 2021 तक बिहार रेलवे का सत प्रतिशत विद्युतीकरण में हो जाए जिसके कारण हमारे रेलवे का गति विकसित हुए और हमारी बिहार वासियों का सुविधाओं में आसान हो जाए

रेलवे बिहार में प्रति वर्ष में जो निवेश किया गया था वह 2009 और 14 वित्त की मात्रा से 1133 कोटा लेकिन नरेंद्र मोदी के आने के बाद 2014 और 19 के बीच के 3 गुना कर दिया गया जिससे रेलवे का विस्तार और विकसित हो रहा है यह जानकारी पीयूष गोयल के माध्यम से दिया गया है