कभी रेखा भी बदनाम थी लोगों के नजरों में, रिया चक्रवर्ती की तरह, जानिए

रेखा के माता-पिता से तेलुगू फिल्मों काम करते थे, पिता का नाम गेमिनी गणेश और माताजी के नाम पुष्पावली, तेलुगू फिल्म इंडस्ट्री से ताल्लुक रखते थे, रेखा कम उम्र नहीं फिल्मों में काम करना चालू कर दी और पहली तेलुगू फिल्म 1966 बच्ची का रोल निभाई थी

उसके बाद कन्नड फिल्म में ऑपरेशन साकेत नाली सीआईडी 999 1969 अभिनेत्री के तौर पर काम करने का मौका मिला, रेखा हिंदी फिल्मों में भी काम करने का ख्वाहिश थी, और रेखा हिंदी फिल्मों में काम पाने के लिए मुंबई में स्ट्रगल करने लगी, फिर कुछ सालों में सावन भादो हिंदी फिल्में मीन अभिनेत्री के तौर पर काम की,

रेखा का असलियत नाम – भानु रेखा गणेशन था जो बचपन में नाम रखा गया था माता पिता के द्वारा, लेकिन फिल्मों में आने से पहले रेखा ने तय कर लिया कि मैं फिल्मों में अपना नाम रेखा रखूंगी, तेलुगु और हिंदी सिनेमा जबरदस्त नाम कमाई रेखा के तो प्यार अमिताभ बच्चन के साथ भी कई खबर चला था जो अभिताभ बच्चन की पत्नी जया बच्चन की इस बात चुप्प रहा करती थी रेखा और अमिताभ बच्चन की प्यार के बातों में

मुकेश अग्रवाल नाम के दिल्ली के बड़े कारोबार जो कई कंपनी के मालिक मुकेश अग्रवाल रेखा से प्यार करने लगता है, जिसके कारण मुकेश अग्रवाल अक्सर रेखा से मिलने के लिए छुप छुप कर के फिल्म शूटिंग के दौरान पहुंचता था और इस बात को रेखा को पता नहीं था कि मुकेश अग्रवाल मुझे से प्यार करता है

मुकेश अग्रवाल को दिल्ली से मुंबई अक्सर रेखा से मिलने के लिए रेखा के घर बांद्रा वेस्ट बैंडस्टैंड के घर पर मुकेश अग्रवाल जाता था लेकिन रेखा अक्सर अपनी फिल्मों की शूटिंग के लिए मुंबई के आसपास फिल्म सिटी में शूटिंग किया करती थी,

जिसे मुकेश अग्रवाल रेखा से मिलने के लिए फिल्म शूटिंग स्थल में अक्सर मिलने के चल जाते थे, मुकेश अग्रवाल ने रेखा को शादी करने के लिए बोला जो रेखा ने भी तैयार हो गई मुकेश अग्रवाल से शादी करने के लिए, रेखा और मुकेश अग्रवाल का शादी 1990 में हो जाता है मुकेश अग्रवाल शादी से पहले रेखा की बहुत बड़ी फैन मुकेश अग्रवाल इसी चाहत में मुकेश अग्रवाल अवसर रेखा को देखने के लिए मुंबई के फिल्म सिटी या शूटिंग के दौरान मुकेश अग्रवाल चला जाता था

मुकेश अग्रवाल मार्च 4 मार्च 1990 को रेखा को शादी करने के लिए प्रस्ताव किया था, कई सारी न्यूज़ मीडिया में उन दिनों रेखा का शादी का समाचार पेपर में छप रहा था जो लिखा जा रहा था कि रेखा और मुकेश अग्रवाल चुपके से शादी कर लिए हैं कोर्ट मैरिज कुछ महीने के बाद मुकेश अग्रवाल दिल्ली की अपने घर में पंखे में फांसी लगाकर आत्महत्या कर लेता है, और उन दिनों रेखा लंदन में अपने शो के लिए गई थी

रेखा जब इस बात को सुनती है कि मुकेश अग्रवाल आत्महत्या कर लिया है तो बहुत ही चौक जाती है और तुरंत इंडिया आने के लिए फ्लाइट पकड़ती है, लेकिन न्यूज़ पेपर वाले ने उन दिनों पेपर में बहुत सारे आर्टिकल लिखे जा रहे थे, जो कुछ इस तरह लिखी थी कि मुकेश अग्रवाल तन्हा रह कर और रेखा को साथ में न रहने के कारण अकेलापन महसूस करने से मुकेश अग्रवाल आत्महत्या कर लिया

कई हिंदी फिल्म के जगत के मशहूर फिल्म डायरेक्टर ने तो रेखा को काम देने से ही मना कर दिया और कई सारे अभद्र शब्द इस्तेमाल करने लगे जो उन दिनों बहुत ही बदनाम हुई थी रेखा अपने प्यार के लिए, सुभाष घई ने ने मना कर दिया था सभी फिल्म डायरेक्टर को रेखा को फिल्मों में काम देने के लिए

रेखा उन दिनों पेपर में हर आर्टिकल मुकेश अग्रवाल का और रेखा का प्यार का इजहार लिखा करते थे, और रेखा बहुत ही बदनाम हो गई थी 1990 में मुकेश अग्रवाल की आत्महत्या के बाद से, रेखा इसके बाद कभी शादी नहीं की और कहीं आपको विनोद मेहरा से भी लगा जो रेखा ने शादी कर लिया है विनोद मेहरा से लेकिन अभी तक कोई रेखा की तरफ से प्रस्ताव नहीं आया है

रेखा इल्जाम लगा कि मुकेश अग्रवाल से शादी करने के बाद भी साथ में क्यों नहीं रहती है, मुकेश अग्रवाल के माता ने पुलिस में शिकायत की रेखा की दूरी के कारण हमारा बेटा मुकेश अग्रवाल ने पंखे से लटक कर आत्महत्या कर ली, और मुकेश अग्रवाल के छोटे भाई शिकायत कि मेरे भाई को रेखा ने नहीं अपनाया, इसी मेरा भाई अकेलापन महसूस करने लगा